उच्च शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता अभिवृद्धि एवं उच्च शिक्षण संस्थाओं को उत्कृष्टतम केन्द्र के रूप में विकसित करने हेतु उच्च शिक्षा विभाग द्वारा सेन्टर ऑफ ऐक्सीलेंस योजना चलायी जा रही है। यह योजना समस्त राज्य विश्चविद्यालयों में संचालित है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य विश्वविद्यालयों के चयनित विभाग/विभागों को सेन्टर ऑफ ऐक्सीलेंस के रूप में विकसित किया जाना है ताकि वह विभाग अपने उत्कृष्टतम रूप में विकसित हो कर कार्य कर सके। इसके अन्तर्गत चिन्हित थ्रस्ट एरियाज (Thrust Areas) में शैक्षिक गुणवत्ता स्थापित करना है जिससे शोध निष्कर्षों/उत्पादों का समाज एवं राष्ट्र के विकास हेतु प्रयोग/उपभोग किया जा सके। नवीन Generic Areas  की खोज, प्रोत्साहन एवं पोषण, विश्वविद्यालयों के शोध संस्थाओं आदि से सम्पर्क कर एवं उससे प्राप्त सहायता को विश्वविद्यालयों के शोध कार्यो हेतु प्रयोग किया जाना है। सेन्टर ऑफ ऐक्सीलेंस योजना द्वारा विश्वविद्यालयों के सम्बन्धित विभाग में उत्कृष्टता (एक्सीलेंस) प्राप्त होने के पश्चात इस विभाग में शोध परक कार्यो, विज्ञान के क्षेत्र में उपकरण/प्रयोगशाला एवं विचार आदि जो स्थापित होगी, उसे अन्य विश्वविद्यालयों के छात्र/शिक्षकों द्वारा उपयोग किया जा सकेगा। साथ ही साथ विश्वविद्यालयों को भी उत्कृष्टता के क्षेत्र में मार्गदर्शन प्राप्त होगा। यह योजना उच्च शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्टता को स्थापित करेगी जिससे विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों को ज्ञान के क्षेत्र में उत्कृष्टाता केन्द्र के रूप में विकसित किया जा सकेगा।

उक्त योजना अन्तर्गत विश्वविद्यालय से प्राप्त प्रस्तावों का परीक्षण परिषद स्तर पर गठित एक्सपर्ट पैनल द्वारा किया जाता है। तदुपरान्त वित्तीय स्वीकृति हेतु शासन को प्रस्ताव सन्दर्भित किए जाते है।

क्र.सं. विषय डाउनलोड
1. उत्कृष्टता केंद्र के लिए दिशानिर्देश
उत्तर प्रदेश राज्य उच्च शिक्षा परिषद | साइज: 665KB | भाषा: हिन्दी| अपलोड की तिथि: 29/07/2017
और देखें
क्र.सं. विषय डाउनलोड
1. उत्कृष्टता समिति का केंद्र
उत्तर प्रदेश राज्य उच्च शिक्षा परिषद | साइज: 458KB | भाषा: हिन्दी| अपलोड की तिथि: 10/10/2019
और देखें